Poem

कविता – पतंग हूँ मैं, दुनिया

2020-ki-yaadein

पतंग हूँ मैं

   पतंग हूँ मैं

उड़ना चाहती हूँ में

जीवन के सारे

रंग समेटे

उड़ती हूँ तलाश ने

अपना एक मुठ्ठी आसमान। 

चाहती हूँ बस

कटने ना दोगे कभी

कट भी जाऊँ

दुर्भाग्य से तो

लूटने न दो कभी

सहेज लोगे 

प्यार का लेप लगा। 

बाॅंध लोगे फिर मुझे

एक नये धागे से

प्यार और विश्वास के

लेकिन डोर है ज़रूरी 

मांजा सूता, 

तो कटूंगी नहीं,

कोशिश करती हूँ

जीवन सहज हो

ढील भी देनी होगी

कभी-कभी

सदा खींचकर न रख पाओगे मुझे

खुशियों की उड़ान देख मेरी

जानती हूँ

खुश हो जाओगे तुम भी

भूल जाओगे खुशी देख मेरी

हाथ कटने का 

गम भी ना होगा …! 

दुनिया..

कभी सांझ बनेगी दुनिया

कभी दोपहरी में ही सिमट जायेगी। 

कभी पनघट तक आयेगी दुनिया

कभी चौखट से लौट जायेगी। 

कभी इशारे में कह जायेगी दुनिया

कभी इशारों से ही लूट ले जायेगी। 

कभी बनकर घटा बरस जायेगी दुनिया

कभी रेत सी फिसल जायेगी। 

कभी फूल सी महक जायेगी दुनिया

कभी कांटा बनकर चुभ जायेगी। 

कभी रहबर बनकर आयेगी दुनिया

कभी पैरों की बेड़ियां बन जायेगी। 

कभी दूर तलक ले जायेगी दुनिया

कभी रस्म रिवाजों में बंध जायेगी। 

कभी रोशन दिये सी आयेगी दुनिया

कभी तोड़कर सारे सपने चली जायेगी। 

जब भी जिंदगी के आगोश में आयेगी दुनिया

नये रंग, ढंग, रूप दिखलायेगी….। 

ये साल सदा याद रहेगा, जब तक जीवन है।।

शुरुआत तुम्हारी अच्छी थी,

जश्न भी हुआ, पार्टी भी की,

होली के रंगो में भी भीगे थे हम,

कोरोना आने से तुम्हारा कोई दोष नहीं,

तुमने वो कर दिखाया जो किसी ने नहीं किया,

सबको परिवार के साथ मिला दिया,

घर में परिवार के प्यार को मजबूत किया,

दूर रहने में ही भलाई है सबसे, 

संदेश ये सबको दिया.. 

घरका खाना सिखा दिया,

तुमसे ही तो सीखा ज़िंदगी को जीना,

तुमने ही तो लोगों को दिखाई सच्ची असलियत है,

तुमसे भी हमें बाकी सालों जैसी मुहब्बत है,

बुरा तो वक़्त था, पर साल यूं ही बदनाम हुआ,

कुछ अच्छा तो कुछ बुरा बनके आया ये साल,

पर क़ैद कैसी होती है सीखा गया हमें,

कुछ बुरा था कुछ अच्छा,

बंद घरों में क़ैद होकर पिंजरे का दर्द जाना,

करीब आ गया परिवार, फोन बन गए दोस्त,

आना जाना नहीं हुआ, मिली ये कैसी फुर्सत,

ये साल सदा याद रहेगा, जब तक जीवन है,

कोई ना सिखा सका, वो ये वक़्त सिखा गया,

2020 तुमसे भी हमें बाकी सालों जैसी ही मुहब्बत है,

अपनो को खोया, अपनो को मिलाया,

नौकरियाँ गयी, पढ़ाई रुक गयी, खाने के लाले पड़े

कुछ अच्छा तो कुछ बुरा था,

ये इतना भी बुरा नहीं है,

ये साल सदा याद रहेगा, जब तक जीवन है।।

उषा पटेल

लेखिका : उषा पटेल

छत्तीसगढ़, दुर्ग

कविता – प्रेम विरह कविता

कविता – माँ का वात्सल्य

पति का पत्नी के लिए सुंदर कविता

Usha Patel

तुम्हारी झलक

 कभी अकेले में भी मुस्कुराती है,

कभी एक पल में सारा प्यार लुटाती है।

कभी ख़ुद ही बिन बात नाराज़ हो जाए,

कभी ख़ुद ही मान जाती है।

कभी अपनी ख़ामोशी से मुझे परेशान करें,

तो कभी बोल बोल कर मेरा दिमाग खाती है।

झलक तुम्हारी पाने को तरसता हूँ,

पर वो नहीं मिलने के बहाने बनाती है।

कभी लफ्जों से बयान कर देता हूँ प्यार,

कभी वो बिन सुने ही मेरे ज़ज्बात समझ जाती है।

यूँ छुप- छुपकर क्यूँ मुझे देखा करती हो,

अपनी इन्हीं अदाओं से प्यार कर जाती है।

Read More – All Song Lyrics

हमें इश्क़ हुआ

थोड़ा करीब आओ, प्यार हमें कर लेने दो,

मैं दिवाना हूँ तेरे इश्क़ का, बाँहों में भर लेने दो।

दिल में रहती हो, चैन भी चुराती हो,

हाँ! हमें इश्क़ हुआ है, तेरे लबों से लब मिल जाने दो।

कुछ लफ़्जों से तुमने सब अपना बना लिया,

हां इश्क़ है तुम को भी, इश्क़ में फ़ना हो जाने दो।

आलिंगन करने को आतुर, कुछ तुम हृदय की कहो न,

अंग में धारूँ, अंग लगाऊँ, आलिंगन तेरा यूँ हो जाने दो।

तुम मेरी सदा ही प्रियतम, अंग लगाए सब रंग भरूँगा,

तुम्हारे साथ ये ज़िन्दगी, हंसी सफ़र बन जाने दो।

लेखिका – उषा पटेल

छत्तीसगढ़, दुर्ग

Beauty Tips

रोचक कविता

अब तोड़ी हूँ वेग मन का

Dil Ke Alfaz

अब तोड़ी हूँ वेग मन का, मुझको धारा बन बह जाने दो,

मुझे भी साथ ले लो प्रीतम, मुझे भी साथ आने दो।

कदमों के धूल चूम, माथे पर सजाती हर उस क्षण,

विरह की भीषण अग्नि में जब-जब मुझको छोड़ चले जाते हो,

विध्वंस मेरे प्रेम का बचा ले जाते विश्वास कि वह बेला, 

पहले मिलन की याद दिला, साथी बनते जब चाँद सितारे।

अबकी जुड़ी, कई बार टूट कर, अब गले मिल नीर बहाने दो, 

रखो क़दम जहाँ-जहाँ तुम, साथी बन मुझे पीछे आने दो।

कुछ अधूरे से ख़्वाब

बुनती रही, रचती रही, ख़्वाबों में जीती रही, 

कुछ अधूरे से ख़्वाब, अब तक हुए ना पूरे। 

विरह वेदना में घायल मन, आस् का दीपक जलाती रही, 

अश्रु नैनों से बांध तोड़, गालों पर निशान बनाते रहे।

कंपित अधरो से पिया मिलन की, गीत गाते रही, 

अब इंतज़ार को विराम दे दो, दुआ ख़ुदा से करती रही।

अधजगी आँखों से अब तक, ख्वाबों में जीती रही, 

ना उम्मीद का दामन छोड़ी,  हर ख्वाब तेरे नाम करती रही।

सबसे अनोखा रिश्ता – दोस्ती का,

या हो बचपन, चाहे जवानी या बुढ़ापे की हो कहानी,

गर दोस्त ना हो संग जीवन में,

तो हर उम्र ज़िया बिन खुशियों के।

सबसे अनोखा रिश्ता दोस्ती का,

जो पास नहीं, पर साथ है रहता,

अंजाने राहों पर मिला सौगात ये होता,

दुनिया का सबसे अनमोल उपहार बना।

हर बंधन से आज़ाद, ना जाती, धर्म में बंधा रहता, 

जज़्बातों और एहसासो से बना रिश्ता होता, 

टूटने का दर्द भी अनोखा ही होता।

बेमिसाल, स्वच्छंद, आज़ाद 

बस दिलों में क़ैद होना अरमान होता,

जुगलबंदी की ना कोई सीमा,

दोस्तों बिना ज़िंदगी अधूरा।।

– Supriya Shaw…✍️🌺

कोशिश तो कर

कोशिश तो कर

माना घनघोर अंधेरा सामने है,

रास्तो का पता, ना मंज़िल सामने है।

ना साथी, ना हमसफ़र, ना कोई कारवाॅं है, 

मन परेशान सा चलना  है मुश्किल।

एक हौसला कह रहा तू क़दम तो बढ़ा,

चल कम से कम तू कोशिश तो कर।

हार कर रुक जाना ही जीवन नहीं है, 

कोशिशो पर समय ने गति बदल दी है।।

– Supriya Shaw…✍️🌺

Nakaratmak Mat Socho

एक सोच पल में बदल दे स्वर कंठो की, 

मृदुल सी बोली से जोड़े कई रिश्तों को।

एक सोच आसमाँ छूने की जब ठाने ह्रदय से, 

लाख अँधेरों में भी मिल जाएँ जुगनू की किरण भी।

नकारात्मकता को जो साथ लिए, “ना” की जगह बन जायेगा,

सकारात्मकता को जो साथ लिए, “हाँ” से रिश्ता जुड़ जायेगा।।

– Supriya Shaw…✍️🌺

“Tere apne tujhse kuchh ummid lagaye baithe hain”

भूल से ही भूल हो जाया करती है

एक अलग दुनिया हम सज़ा लेते हैं। 

अपनी खुशियो का दर्ज़ा पहला रखते हैं, 

अपनों की उम्मीदो को जब हम भूल जाते हैं। 

महलो के आशियाने को हीरे जवाहरातो से सजाते हैं, 

तब अपने भी अपनों से दूरी बनाए रखते हैं। 

उम्मीद के आँसू इंतज़ार में सूख जाते हैं, 

जब महलो के दरवाज़े भी बंद नज़र आते हैं। 

अपनों का साथ सपना बनकर रह जाता हैं, 

जब उम्मीद की घड़ियाँ इंतज़ार में बदल जाती है। 

अपनो से उम्मीद अपने ही करते हैं, 

नाउम्मीदी से अपनों को दुःखी हम करते हैं।।

– Supriya Shaw…✍️🌺

आँखें बंद करके

आँखें बंद करके

आँखें बंद करके

वह पल दोहरा लेती हूँ

ज़िंदगी जीने की 

वज़ह ढूंढ लेती हूँ

हर ख़्वाब को 

हक़ीक़त बना कर 

ज़िंदगी में शामिल कर लेती हूँ

ज़िद समझो शायद 

पर कोशिश है मेरी

हर किरदार को निभाने का 

हुनर ढूंढ लेती हूँ

जुगनू नहीं मैं 

जो कुछ पल की रोशनी दे 

दम तोड़ देती है

मैं वो सितारा हूँ

जो अपनी रोशनी से 

ख़ुद जगमगाती हूँ।।

By – Supriya Shaw…✍️🌺

Happy Teacher’s day

गुरु का दर्जा है सर्वोपरि, उनके जैसा पथप्रदर्शक नहीं,

अज्ञानता के अंधकार से हमें कराते परिचित, 

संस्कारों की अहमियत का अभास कराते गुरुजन, 

ज्ञान का भंडार देकर जीवन को सुखमय बनाते हैं, 

ऐसे सभी गुरुओं को हमारा है नमन।।